कौन ऋतु सर्वोत्तम है ? | akbar birbal stories in hindi

बीरबल एक दिन बादशाह राजकीय कामों से अवकाश पाकर अपने दर्बार में बैठे थे। इधर उधरकी बातें भी हो रही थी। तब बादशाह ने पूछा-गर्मी, बर्सात, जाड़ा, हेमन्त, शिशिर और बसन्त इन छहों ऋतुओं में सर्वोत्तम ऋतु कौन है ?” दरबारियों ने अपनी अभिरुचि के अनुसार किसी ने कुछ और किसी ने कुछ बतलाया, परन्तु … Read more

एक हजार जूते | akbar birbal stories in hindi

एक दिन बादशाह बीरबल को झिपाने की नीयत से उसके जूते गुम करा दिये । जब घर जाने का समय हुआ तो बीरबल अपने जूतों को तलाश करने लगा। जब वे न मिले तो बादशाहने कहा-‘अच्छी बात है; बीरबलको हमारी तरफ से जूते दिये जायँ ।” बीरबल नये जूतों का पहन कर ऊपरी प्रसन्नता दिखलाते … Read more

कर्मो का फल | akbar birbal stories in hindi

बीरबल  एक बार की बात है कि शहंशाह अकबर और एबीरबल बगीचे में टहल रहे थे। अचानक बादशाह के दिमाग में एक सवाल आ गया। वह बीरबल की ओर देखते हुए बोले, “बीरबल, इस संसार में कोई गरीब है और कोई अमीर है। क्या बता सकते हो ऐसा क्यों है? खुदा तो समदर्शी है और … Read more

कर्मो का फल | akbar birbal stories in hindi

बीरबल  एक बार की बात है कि शहंशाह अकबर और एबीरबल बगीचे में टहल रहे थे। अचानक बादशाह के दिमाग में एक सवाल आ गया। वह बीरबल की ओर देखते हुए बोले, “बीरबल, इस संसार में कोई गरीब है और कोई अमीर है। क्या बता सकते हो ऐसा क्यों है? खुदा तो समदर्शी है और … Read more

लकीर छोटी हो गई | akbar birbal stories in hindi

एक दिन बादशाह ने बीरबल को छकाने के विचार से एक भूल भुलैया की चाल निकाली। वह एक लकीर जमीन पर खींचकर बीरबल से बोले-“बीरबल! इस लकीर को बिना काटे छाँटे छोटी कर दो । बीरबल तो पूरा गुरु घण्टाल था ही, उस लकीर कोन घटाया और न बढ़ाया, बल्कि उसके पास ही अपनी उँगली … Read more

बादशाह का तोता | akbar birbal stories in hindi

Akbar Birbal एक फकीर बड़ा तोते बाज था। वह तोता बाजार से खरीद कर लाता और उसे भली प्रकार शिक्षित कर अमीर उमरावों को देकर द्रव्य उपार्जन करता। एक दिन वह अपने नियम के अनुसार एक बहुत अच्छे तोते को खूब सिखा पढ़ा कर बादशाह को दिया।   बादशाह तोते की खूबसूरती और इल्मियत से … Read more

भुला वादा | akbar birbal stories in hindi

बीरबल बीरबल से एक बार शहंशाह अकबर इतना बा प्रसन्न हुए कि उन्होंने बीरबल को इनाम में जागीर देने का निर्णय कर लिया। बीरबल के बुद्धिमत्तापूर्ण कार्यों से खुश होकर शहंशाह अकबर ने जागीर देने की बात तो कह दी लेकिन बाद में उनका इरादा बदल गया। बीरबल ने दो-तीन बार शहंशाह को उनका फैसला … Read more

कुछ भी नहीं बचा | akbar birbal stories in hindi

Akbar Birbal अपने सवालों के लिए प्रसिद्ध बादशाह अकबर अदरबार आए तो बीरबल कहीं नजर नहीं आए। उन्होंने दरबारियों से पूछा, “बताओ, 27 में से 1 गए तो क्या शेष रहा?” दरबारी मन-ही-मन सोचने लगे कि बादशाह यह क्या पूछ रहे हैं।   क्या हम लोग कोई बच्चे हैं कि इतना आसान सवाल हल नहीं … Read more

जो समय पर काम आये | akbar birbal stories in hindi

Akbar Birbal बदशाह अकबर ने दरबार में आते ही सवाल कर दिया, “सबसे श्रेष्ठ और उत्तम हथियार कौन-सा है?” एक दरबारी उठकर बोला, “जहांपनाह , भाला…. भाला उत्तम हथियार है।” दूसरा दरबारी बोला, “नहीं हुजूर, तलवार।” तीसरा दरबारी बोला, “नहीं जहांपनाह तीर-कमान।”   बादशाह को दरबारियों के जवाब से संतुष्टि नहीं मिली तो उन्होंने बीरबल … Read more

तीन सवालों का जवाब | akbar birbal stories in hindi

Akbar Birbal एक दिन बादशाह और उसके खोजे से आपस में कुछ बात हो रही थीं, इसी बीच बीरबल की बात आई। तब खोजे ने बीरबल की बड़ी दुनिन्द की। यह बादशाह का मुंह लगा खोजा था इसलिये खुलेआम उसकी अवहेलना करना उचित न समझ कर प्रमाणों द्वारा मुँहतोड़ उत्तर देना शुरू किया।   वह … Read more