लालच के कारण मनुष्य की बुद्धि सही दिशा में सोचने में असमर्थ रहती है, उसके लिए वस्तुओं की प्राप्ती महत्वपूर्ण होती है, परिणाम नहीं।

1

मनुष्य को दान उतना ही करना चाहिए, जीतनी उसमे शक्ति हो, शक्ति से अधिक दान देने से हानि होती है।

2

मनुष्य में यदि कोई एक बड़ा दोष हो तो वह बहुत से गुणो को दोष में बदल देता है।

3

कुछ भी स्थाई नहीं है। अपने आप को अधिक तनाव न दें क्योंकि स्थिति कितनी भी खराब हो यह बदल जाएगी।

4

हमेशा शांत रहें जीवन में खुदको बहुत मजबूत पायेगें क्योंकि लोहा ठंडा रहने पर ही मजबूत होता है गर्म होने पर तो उसे किसी भी आकर में ढाल दिया जाता है।

5

आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने हृदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो, अनुशाषित रहो.

6

किसी दिन , जब आपके सामने कोई समस्या ना आये – आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप गलत मार्ग पर चल रहे हैं।

7

इसी प्रकार के सुविचार हर रोज पढ़ने के लिए क्लिक करें 

click hare