“चाणक्य ने कुछ ऐसी बाते बताई है जिन्हे अगर बुद्धिमान व्यक्ति करता है तो उसे कष्ट का सामना करना पड़ सकता है ”

- चाणक्य

“मुर्ख व्यक्तियों को समझाने या उन्हें उपदेश देने से एक बुद्धिमानी को कष्ट पहुंच सकता है क्योंकि उन्हें ज्ञान देने से कोई  लाभ नहीं होता। ”

- चाणक्य

“धन के नष्ट होने और धन के व्यर्थ में खर्च होने से एक बुद्धिमान व्यक्ति को कष्ट होता है।  ”

- चाणक्य

“जिन लोगों का धन नष्ट हो चूका है तथा जो मनुष्य बिमारियों से घिरा हुआ है और दुखी है उनसे संबध रखने से बुद्धिमानी को हानि हो सकती है। ”

- चाणक्य

“बिमारियों से तातपर्य है कि अगर कोई संक्रामक रोग से क्षतिग्रस्त है तो ऐसे में बुद्धिमानी व्यक्ति को उनसे संबध रखने में कष्ट का सामना करना पड़ सकता है।”

- चाणक्य

“दुष्ट स्वभाव वाली स्त्री का पालन पोषण करने से बुद्धिमानी व्यक्ति को कष्ट का सामना करना पड़ सकता है। ”

- चाणक्य

इसी प्रकार की जानकारी के लिए क्लिक करें

click hare