आचार्य चाणक्य ने कुछ ऐसी बातें कहीं है जो थोड़ी अटपटी हैं लेकिन ये जीवन में जरूर अपनानी चाहिए। 

- आचार्य

“मनुष्य को दान उतना ही करना चाहिए, जीतनी उसमे शक्ति हो, शक्ति से अधिक दान देने से हानि होती है।”

- आचार्य

“लालची को धन देकर, अभिमानी को जोड़कर, मुर्ख को उसकी इच्छानुसार काम करके और विद्वान को सच्ची बात बता कर वश में करना चाहिए।”

- आचार्य

“शत्रु को अपनी दुर्बलताओं का परिचय नहीं देना चाहिए। ऐसा प्रयास करना चाहिए कि अपनी दुर्बलताएँ शत्रु के सामने प्रकट न हो।”

- आचार्य

“दुष्ट व्यक्ति से किसी प्रकार की भलाई की आशा नहीं रखनी चाहिए।”

- आचार्य

“अग्नि, गुरु, ब्राह्मण, गाये, कुंवारी कन्या, बूढ़ा आदमी और छोटे बच्चे इन सबको कभी भी पैर से नहीं छूना चाहिए।”

- आचार्य

“अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने के स्थान पर क्षमा का प्रदर्शन करना अत्यधिक प्रशंसनीय कार्य है।”

- आचार्य

इसी प्रकार के विचार पढ़ने के लिए क्लिक करें 

click hare