विशाल राक्षस और बंदर की कहानी (Panchatantra Stories In Hindi With Moral)

एक नगर में भद्रसेन नाम का एक राजा रहता था। उसकी कन्या रत्नवती थी। उसे हर समय यही डर रहता था कि कोई राक्षस उसका अपहरण न कर ले। उसके महल के चारों ओर पहरा रहता था, फिर भी वह सदा डर से काँपती रहती थी। रात के समय उसका डर और भी बढ़ जाता … Read more

बंदरों की कहानी (Panchatantra Stories In Hindi With Moral)

एक नगर के राजा चन्द्र के पुत्रों को बन्दरों से खेलने का व्यसन था। बन्दरों का सरदार भी बड़ा चतुर था। वह सब बन्दरों को नीतिशास्त्र पढ़ाया करता था। सब बन्दर उसकी आज्ञा का पालन करते थे। राजपुत्र भी उस बन्दरों के सरदार वानरराज को बहुत मानते थे। उसी नगर के राजगृह में छोटे राजपुत्र के … Read more

ब्राह्मण और सत्तुओं की कहानी (Panchatantra Stories In Hindi)

एक नगर में कोई कंजूस ब्राह्मण रहता था। उसने भिक्षा से प्राप्त सत्तुओं में से थोड़े-से खाकर शेष से एक घड़ा भर लिया था। उस घड़े को उसने रस्सी से बाँध खूंटी से लटका दिया और उसके नीचे पास ही खटिया डालकर उस पर लेटे-लेटे विचित्र सपने लेने लगा और कल्पना के हवाई घोड़े दौड़ाने … Read more

गधे की कहानी (Panchatantra Stories In Hindi)

एक गाँव में उद्धत नाम का गधा रहता था। दिन में धोबी का भार ढोने के बाद रात को वह स्वेच्छा से खेतों में घूमा करता था। सुबह होने पर वह स्वयं धोबी के पास आ जाता था। रात को खेतों में घूमते-घूमते उसकी जान-पहचान एक गीदड़ से हो गई। गीदड़ मैत्री करने में बड़े … Read more

मेंढक और मछलियों की कहानी (Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)

एक तालाब में दो मछलियाँ रहती थीं। एक थी शतबुद्धि (सौ बुद्धियोंवाली) दूसरी थी सहस्रबुद्धि (हजार बुद्धिवाली)। उस तालाब में एक मेढक भी रहता था । उसका नाम था एकबुद्धि। उसके पास एक ही बुद्धि थी। इसलिए उसे बुद्धि पर अभिमान नहीं था। शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि को अपनी चतुराई पर बड़ा अभिमान था। एक दिन … Read more

चार मूर्ख ब्राह्मणों की कहानी (Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)

एक स्थान पर चार ब्राह्मण रहते थे। चारों विद्याभ्यास के लिए कान्यकुब्ज गए। निरन्तर बारह वर्ष तक विद्या पढ़ने के बाद वे सम्पूर्ण शास्त्रों के पारंगत विद्वान हो गए। किन्तू व्यवहार बुद्धि से चारों खाली थे। विद्याभ्यास के बाद चारों स्वदेश के लिए लौट पड़े। कुछ दूर चलने के बाद रास्ता दो तरफ था ।-किस … Read more

मूर्ख वैज्ञानिकों की कहानी (Panchatantra Stories In Hindi Short)

एक नगर में चार मित्र रहते थे। उनमें से तीन बड़े वैज्ञानिक थे, किन्तु बुद्धि रहित थे; चौथा वैज्ञानिक नहीं था, किन्तु बुद्धिमान् था। चारों ने सोचा कि विद्या का लाभ तभी हो सकता है, यदि वे विदेशों में जाकर धन-संग्रह करें। इसी विचार से वे विदेश-यात्रा को चल पड़े। कुछ दूर जाकर उनमें से … Read more

ब्राह्मण और नेवले की कहानी (पंचतंत्र की कहानियां हिंदी में)

एक बार एक ब्राह्मण के घर उसके पुत्र के जन्म होने के साथ-साथ एक नकुली ने भी नेवले को जन्म दिया। ब्राह्मणी और ब्राह्मण ने नेवले को अपने पुत्र के साथ साथ ही पाला। नेवला भी ब्राह्मण के पुत्र को बहुत प्रेम करता था और वो दोनों आपस में खेलते रहते थे। किन्तु ब्राह्मण की … Read more

घंटे और ऊंट की कहानी (Panchatantra Hindi Story)

एक गांव में उज्ज्वलक नाम का एक बढाई (लकड़ी का काम करने वाला) रहता था। वह अपनी गरीबी से बहुत परेशान था इसलिए वह किसी दूसरे देश जाकर धन कमाना चाहता था। ऐसा ही हुआ वह दूसरे देश जाने के लिए एक जगले से जा रहा था। वह देखता है कि एक ऊंटनी अपने झुण्ड … Read more

स्त्री, ठग और सियारन की कहानी (Panchtantra Ki Kahani In Hindi)

एक गांव में किसान पति पत्नी रहा करते थे। किसान बहुत वृद्ध हो गया था पर उसकी पत्नी अभी जवान थी। पति के वृद्ध होने के कारन उसकी पत्नी का चरित्र दूषित हो गया। पूरा गांव उसके खराब चरित्र के बारे में जानता था। लेकिन उनके पास धन की कमी नहीं थी। यह जान एक … Read more