ब्राह्मण और सत्तुओं की कहानी (Panchatantra Stories In Hindi)

एक नगर में कोई कंजूस ब्राह्मण रहता था। उसने भिक्षा से प्राप्त सत्तुओं में से थोड़े-से खाकर शेष से एक घड़ा भर लिया था। उस घड़े को उसने रस्सी से बाँध खूंटी से लटका दिया और उसके नीचे पास ही खटिया डालकर उस पर लेटे-लेटे विचित्र सपने लेने लगा और कल्पना के हवाई घोड़े दौड़ाने लगा।

उसने सोचा कि देश में अकाल पडेगा तो इन सत्तुओं का मुल्य सौ रुपये हो जाएगा। उन सौ रुपयों से मैं दो बकरियाँ लूँगा । छ: महीने में उन दो बकरियों से कई बकरियाँ बन जाएँगी। उन्हें बेचकर एक गाय लंगा । गौओं के बाद भैंस लूंगा । और फिर घोडे ले लूंगा। घोड़े को महंगे दामों में बेचकर मेरे पास बहुत-सा सोना हो जाएगा। सोना बेचकर मैं बहुत बड़ा घर बनाऊँगा। मेरी संपत्ति को देखकर कोई भी ब्राह्मण अपनी रूपवती कन्या का विवाह मुझसे कर देगा।

वह मेरी पत्नी बनेगी। उससे जो पुत्र होगा। उसका नाम मैं सोमशर्मा रखूंगा। जब वह घुटनों के बल चलना सीख जाएगा तो मैं पुस्तक लेकर घड़शाला के पीछे की दीवार पर बैठा हुआ उसकी बाल-लीलाएँ देखूगा । उसके बाद सोमशर्मा मुझे देखकर माँ की गोद से उतरेगा और मेरी ओर आएगा तो मैं उसकी माँ को क्रोध से कहूँगा।-अपने बच्चे को सँभाल । वह गृह-कार्य में व्यस्त होगी, इसलिए मेरा वचन न सुन सकेगी, तब मैं उठकर उसे पैर की ठोकर से मारूँगा। यह सोचते ही उसका पैर ठोकर मारने के लिए ऊपर उठा। वह ठोकर सत्तू भरे घड़े को लगी। घड़ा चकनाचूर हो गया। कंजूस ब्राह्मण के स्वप्न भी साथ ही चकनाचूर हो गए।

शिक्षा

हवाई किले मत बांधो यानी कि जो पाना असंभव है उसे सोच कर अपना समय व्यस्त न करो।

Leave a Comment