मेंढक और मछलियों की कहानी (Panchatantra Short Stories In Hindi With Moral)

एक तालाब में दो मछलियाँ रहती थीं। एक थी शतबुद्धि (सौ बुद्धियोंवाली) दूसरी थी सहस्रबुद्धि (हजार बुद्धिवाली)। उस तालाब में एक मेढक भी रहता था । उसका नाम था एकबुद्धि। उसके पास एक ही बुद्धि थी। इसलिए उसे बुद्धि पर अभिमान नहीं था। शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि को अपनी चतुराई पर बड़ा अभिमान था।

एक दिन संध्या समय तीनों तालाब के किनारे बातचीत कर रहे थे। उसी समय उन्होंने देखा कि कुछ मछियारे हाथों में जाल लेकर वहाँ आए। उनके जाल में बहुत-सी मछलियाँ फँसकर तड़प रही थीं। तालाब के किनारे आकर मछियारे आपस में बात करने लगे। एक ने कहा:

-इस तालाब में खूब मछलियाँ हैं। पानी भी कम है। कल हम यहाँ आकर मछलियाँ पकड़ेंगे।

सबने उसकी बात का समर्थन किया। कल सुबह यहाँ आने का निश्चय करके मछियारे चले गए। उनके जाने के बाद सब मछलियों ने सभा की। सभी चिन्तित थे कि मैं सुबह होने से पहले ही इस जलाशय को छोड़कर अपनी पत्नी के साथ दूसरे जलाशय में चला जाऊँगा । यह कहकर वह मेढक, मेढकी को लेकर तालाब से चला गया।

दूसरे दिन अपने वचनानुसार वे मछियारे वहाँ आए। उन्होंने तालाब में जाल बिछा दिया। तालाब की सभी मछलियाँ जाल में फंस गईं। शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि ने बचाव के लिए बहुत–से पैंतरे बदले, किन्तु मछियारे भी अनाड़ी न थे। उन्होंने चुन-चुनकर सब मछलियों को जाल में बाँध लिया। सबने तड़प-तड़प कर प्राण दिए।

संध्या समय मछियारों ने मछलियों से भरे जाल को कन्धे पर उठा लिया। शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि बहुत भारी मछलियाँ थीं। इसीलिए उन्होंने शतबुद्धि को कन्धे पर और सहस्रबुद्धि को हाथों पर लटका लिया था। उनकी दुरवस्था देखकर एकबुद्धि मेढक ने अपनी मेढकी से कहा :

-देख प्रिये! मैं कितना दूरदर्शी हूँ। जिस समय शतबुद्धि कन्धों पर और सहस्रबुद्धि हाथों में लटकी जा रही है, उस समय मैं एकबुद्धि इस छोटे-से जलाशय में निर्मल जल में सानन्द विहार कर रहा हूँ। इसलिए मैं कहता हूँ कि विद्या से बुद्धि का स्थान ऊँचा है,और बुद्धि में भी सहस्रबुद्धि की अपेक्षा एकबुद्धि होना अधिक व्यावहारिक है।

यह कहानी पूरी होने के बाद चक्रधर ने पूछा :

ने भी उसका समर्थन करते हुए कहाबुद्धिमान् के लिए संसार में सब कुछ सम्भव है। जहाँ वायु

और प्रकाश की भी गति नहीं होती, वहाँ बुद्धिमानों की बुद्धि पहुँच जाती है। किसी के कथनमात्र से हम अपने पूर्वजों की भूमि को नहीं छोड़ सकते। अपनी जन्मभूमि से जो सुख होता है वह स्वर्ग में भी नहीं होता। भगवान् ने हमें बुद्धि दी है, भय से भागने के लिए नहीं, बल्कि भय का युक्तिपूर्वक सामना करने के लिए।

तालाब की मछलियों को तो शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि के आश्वासन पर भरोसा हो गया, लेकिन एकबुद्धि मेढक ने कहा-मित्रों! मेरे पास तो एक ही बुद्धि है, वह मुझे यहाँ से भाग जाने की सलाह देती है। इसीलिए

मैं सुबह होने से पहले ही इस जलाशय को छोड़कर अपनी पत्नी के साथ दूसरे जलाशय में चला जाऊँगा । यह कहकर वह मेढक, मेढकी को लेकर तालाब से चला गया।

दूसरे दिन अपने वचनानुसार वे मछियारे वहाँ आए। उन्होंने तालाब में जाल बिछा दिया। तालाब की सभी मछलियाँ जाल में फंस गईं। शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि ने बचाव के लिए बहुत–से पैंतरे बदले, किन्तु मछियारे भी अनाड़ी न थे। उन्होंने चुन-चुनकर सब मछलियों को जाल में बाँध लिया। सबने तड़प-तड़प कर प्राण दिए।

संध्या समय मछियारों ने मछलियों से भरे जाल को कन्धे पर उठा लिया। शतबुद्धि और सहस्रबुद्धि बहुत भारी मछलियाँ थीं। इसीलिए उन्होंने शतबुद्धि को कन्धे पर और सहस्रबुद्धि को हाथों पर लटका लिया था। उनकी दुरवस्था देखकर एकबुद्धि मेढक ने अपनी मेढकी से कहा :

-देख प्रिये! मैं कितना दूरदर्शी हूँ। जिस समय शतबुद्धि कन्धों पर और सहस्रबुद्धि हाथों में लटकी जा रही है, उस समय मैं एकबुद्धि इस छोटे-से जलाशय में निर्मल जल में सानन्द विहार कर रहा हूँ। इसलिए मैं कहता हूँ कि विद्या से बुद्धि का स्थान ऊँचा है,और बुद्धि में भी सहस्रबुद्धि की अपेक्षा एकबुद्धि होना अधिक व्यावहारिक है।

शिक्षा

एक व्यावहारिक बुद्धि हजार अव्यावहारिक बुद्धि से अच्छी है। यानि अगर व्यक्ति को हजार वेदों का ज्ञान है और बहुत अधिक शिक्षा उसने ग्रहण की है परन्तु वह उसे व्यवहार में नहीं ला सकता या उसे समय पर प्रयोग नहीं कर सकता, तो उससे बेहतर तो वह व्यक्ति है जिसको ज्यादा ज्ञान नहीं पर जितना उसके पास ज्ञान है वह उसे व्यवहार में अच्छे तरीके से और समय पर व्यवहार में लाता है। 

Leave a Comment