You are currently viewing Teachers day slogan in Hindi | शिक्षक दिवस पर बेहतरीन स्लोगन
teachers day slogans in hindi

Teachers day slogan in Hindi | शिक्षक दिवस पर बेहतरीन स्लोगन

एक नजर में शिक्षक दिवस

विश्व के कुछ देशों में शिक्षकों (गुरुओं) को विशेष सम्मान देने के लिये शिक्षक दिवस का आयोजन किया जाता है। कुछ देशों में छुट्टी रहती है जबकि कुछ देश इस दिन कार्य करते हुए मनाते हैं।

भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन (5 सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने अपने छात्रों से जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की इच्छा जताई थी। दुनिया के 100 से ज्यादा देशों में अलग-अलग तारीख पर शिक्षक दिवस मनाया जाता है। देश के पहले उप-राष्‍ट्रपति डॉ राधाकृष्‍णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को तमिलनाडु के तिरुमनी गांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। वे बचपन से ही किताबें पढ़ने के शौकीन थे और स्वामी विवेकानंद से काफी प्रभावित थे। राधाकृष्णन का निधन चेन्नई में 17 अप्रैल 1975 को हुआ शिक्षक दिवस के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें


शिक्षक न होता साधारण
करता है वही अज्ञान का हरण


जो गुरु शिष्य को एक अक्षर का भी ज्ञान देता है
गुरु के ऋण से वह कभी मुक्त नहीं हो पाता है


जीने के लिए ऋण है पिता का
अच्छे से जीने के लिए ऋण है गुरु का


गुरु का कभी न करें अपमान
भगवान की तरह करें उनका सम्मान


जो अपने व्यक्तिगत प्रभावों से बचाता
सच्चा गुरु वही है कहलाता

यह भी जाने: शिक्षक दिवस पर बेहतरीन विचार

यह भी जाने: शिक्षा पर बेहतरीन नारे


जिस शिष्य के मन में नहीं गुरु भक्ति
उसकी शिक्षा कभी नहीं हो सकती


गुरु वह चाबी है कहलाता
जिससे भविष्य का हर ताला खुल जाता


चाहे ज्ञान अर्जित कर लो संसार का पूरा
गुरु बिना सब है अधूरा


करती किताबें बताने का काम
गुरु करता सिखाने का काम


गुरु का न करो अपमान
माफ़ नहीं करेगा कभी भगवान


जिंदगी जीनी है अगर सही
तो गुरु है जरुरी


गुरु है दिए सम्मान
खुद जलकर दूसरों को देता ज्ञान


जो कर दे अज्ञान के अँधेरे में ज्ञान का प्रकाश
वही कहलता है गुरु महान

पिता के प्यार से अच्छी है
गुरु की डांट


सफल जीवन का यही सूत्र
गुरु ही हमारे हर प्रश्न का उत्तर


अच्छा गुरु मिला
तो बेहतर भविष्य मिला


गुरु रूपी अनमोल रत्न नहीं जिसके पास
बेहतर भविष्य की नहीं की जा सकती आस


धो दे जो कीचड़ रूपी अज्ञान
गुरु है उस पवित्र जल सम्मान


गुरु तेरे उपकार का,
कैसे चुकाऊं मैं मोल,
लाख कीमती धन भला,
गुरु हैं मेरे अनमोल


अक्षर-अक्षर हमें सिखाते शब्द-शब्द का अर्थ बताते,
कभी प्यार से कभी डाँट से, जीवन जीना हमें सिखाते।

Leave a Reply