एक हजार जूते | akbar birbal stories in hindi

Akbar Birbal moral stories
Akbar Birbal

एक दिन बादशाह बीरबल को झिपाने की नीयत से उसके जूते गुम करा दिये । जब घर जाने का समय हुआ तो बीरबल अपने जूतों को तलाश करने लगा। जब वे न मिले तो बादशाहने कहा-‘अच्छी बात है; बीरबलको हमारी तरफ से जूते दिये जायँ ।” बीरबल नये जूतों का पहन कर ऊपरी प्रसन्नता दिखलाते हुए बोला-“मैं आपको आशीर्वाद देता हूँ कि ईश्वर इसके पहले आपको हरलोक परलाक सभी जगह ऐसे ही हजार जूते दे।

 

” बीरबल के ऐसे हास्यपूर्ण आशीर्वाद को सुनकर वादशाह खिलखिला कर हँस पड़ा। दरबारी लोग चकित हाकर वीरयल का मुंह देखते रह गये।

ये भी जाने: कर्मो का फल|  akbar birbal stories in hindi

 

Leave a Comment