भुला वादा | akbar birbal stories in hindi

अकबर बीरबल की कहानियां
बीरबल

बीरबल से एक बार शहंशाह अकबर इतना बा प्रसन्न हुए कि उन्होंने बीरबल को इनाम में जागीर देने का निर्णय कर लिया। बीरबल के बुद्धिमत्तापूर्ण कार्यों से खुश होकर शहंशाह अकबर ने जागीर देने की बात तो कह दी लेकिन बाद में उनका इरादा बदल गया। बीरबल ने दो-तीन बार शहंशाह को उनका फैसला याद भी दिलाया लेकिन बादशाह बीरबल को अब जागीर देना नहीं चाहते थे।

 

एक रोज बीरबल ने कहा, “हुजूर, मेरी जागीर का क्या हुआ?”

 

बादशाह बीरबल की बात अनसुनी कर दूसरों की बातों में लग गए। बीरबल को बहुत बुरा लगा और वह अब मौके की तलाश में रहने लगे। एक दिन मौका आ ही गया। बादशाह बीरबल के साथ सैर पर निकले। रास्ते में उन्होंने ऊंट देखा तो बीरबल से सवाल कर दिया, “बीरबल, ऊंट की गर्दन टेढ़ी क्यों है?”

बीरबल ने जवाब में कहा, “जहांपनाह, यह भी किसी को पिछले जन्म में जागीर देने का वायदा करके भूल गया होगा।” बीरबल के इतना कहते ही शहंशाह शर्मसार हो गए और उसी समय उन्होंने बीरबल को जागीर देने की घोषणा कर दी।.

ये भी जाने : लकीर छोटी हो गई | akbar birbal stories in hindi
 

Leave a Comment