लकीर छोटी हो गई | akbar birbal stories in hindi

Advertisement

एक दिन बादशाह ने बीरबल को छकाने के विचार से एक भूल भुलैया की चाल निकाली। वह एक लकीर जमीन पर खींचकर बीरबल से बोले-“बीरबल! इस लकीर को बिना काटे छाँटे छोटी कर दो । बीरबल तो पूरा गुरु घण्टाल था ही, उस लकीर कोन घटाया और न बढ़ाया, बल्कि उसके पास ही अपनी उँगली से एक दूसरो लकीर उससे भी बड़ी खींचकर बोला-“लीजिये पृथिवीनाथ! अब आपकी लकीर इससे भी छोटी हो गई।” बादशाह बीरबल की बुद्धि से हार मान गया।

ये भी जाने : दूध की जगह पानी | akbar birbal stories in hindi

 

Leave a Comment