सच्चे झूठे का भेद | akbar birbal stories in hindi

Akbar Birbal

बादशाह और बीरबल में सिद्धान्त निरूपण हो रहा था इसी के अन्तरगत बादशाह ने बीरबल से सच्चे और झूठे. का भेद पूछा। बीरबल ने उत्तर दिया-“पृथिवीनाथ !

 

इन दोनों के मध्य उतना ही भेद है जितना कि आँख और कानों में है।” बादशाह की समझ वहाँ तक न पहुँच सकी इस वास्ते बीरबल से फिर पूछा-“क्यों, ऐसा काहे को होता है ?” बीरबल ने उत्तर दिया-“पृथिवीनाथ ! सुनिये, जो बात आँखों देखी रहती है वह तो सच्ची और जो कान से सुनी जाती है वह झूठी।” बादशाह बीरबल के युक्तिसंगत और तर्कपूर्ण उत्तर से सन्तुष्ट हो गया।

ये भी जाने : सीढियाँ कितनी हैं | akbar birbal stories in hindi

Leave a Comment