Chanakya thoughts In Hindi | आचार्य चाणक्य के अनमोल विचार।

 Chanakya thoughts In Hindi

चाणक्य का जन्म एक बहुत ही निर्धन परिवार में 400 ईसा पूर्व में हुआ था। उनका स्वाभाव बचपन से ही बहुत उग्र था इसलिए उन्हें कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है तथा उन्हें विष्णु गुप्त के नाम से भी जाना जाता था। चाणक्य ने उस समय के महान शिक्षा के केंद्र में शिक्षा ग्रहण की थी। नका रंग काला था तथा रूप के बदसूरत थे। इस लेख में Chanakya thoughts के साथ उनकी Image भी आपको प्राप्त हो जाएगी।
 
chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

कार्य करते समय जो कार्य बिगड़ जाये उसको देखकर ठीक करने का प्रयत्न  करना चाहिए।” ~ आचार्य चाणक्य


chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
लालच के कारण मनुष्य की बुद्धि सही दिशा में सोचने में असमर्थ रहती है, उसके लिए वस्तुओं की प्राप्ती महत्वपूर्ण होती है, परिणाम नहीं।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
मनुष्य को दान उतना ही करना चाहिए, जीतनी उसमे शक्ति हो, शक्ति से अधिक दान देने से हानि होती है।” आचार्य चाणक्य
 

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
जिस व्यक्ति में धैर्य नहीं होता उसमे कार्य करने  की शक्ति नष्ट हो जाती है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
लालची को धन देकर, अभिमानी को जोड़कर, मुर्ख को उसकी इच्छानुसार काम करके और विद्वान को सच्ची बात बता कर वश में करना चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
अच्छी प्रकार से सोच-समझकर तथा अवसर को पहचानने के बाद जो व्यक्ति कार्य करता है, उसे ही सफलता प्राप्त होती है।  ” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

शत्रु को अपनी दुर्बलताओं का परिचय नहीं देना चाहिए। ऐसा प्रयास करना चाहिए कि अपनी दुर्बलताएँ शत्रु के सामने प्रकट न हो।” आचार्य चाणक्य
काम छोटा हो या बड़ा व्यक्ति को शुरू से ही उसमे अपनी पूरी शक्ति लगा देनी चाहिए। यह गुण हमे शेर से सीखना चाहिए। ” आचार्य चाणक्य
समय पर जगाना, युद्ध के लिए हमेशा तैयार रहना, अपने साथियों को उचित हिस्सा देना ये बातें हमें मुर्गे से सीखनी चाहिए। ” आचार्य चाणक्य
समय-समय पर वस्तुएं इकट्ठी करना, हमेशा सावधान रहना और किसी दूसरे पर पूरी तरहं विश्वास न करना ये पांच बातें कौए से सीखनी चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
अधिक भोजन की क्षमता होने पर भी कम भोजन में संतुष्ट हो जाना, जरा सी आहट से नींद से  जाग जाना, मालिक से प्रेम करना और बहादुरी से लड़ना ये गुण कुत्ते से सिखने चाहिए।    ” आचार्य चाणक्य
थके रहने पर भी मेहनत करना, सर्दी गर्मी की चिंता न करना और अपने जीवन से संतुष्ट रहना यह गुण हमें गधे से सिखने चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

बारिश के पानी के जैसा दूसरा कोई जल शुद्ध नहीं, आत्मबल के समान कोई दूसरा बल नहीं और अन्न के जैसा कोई दूसरा प्रिय पदार्थ नहीं। ” आचार्य चाणक्य
किसी भी चीज से लगा घाव भर जाता है परन्तु कठोर वाणी का घाव दिल पर हमेशा रहता है। कठोर बातें बोलना एक प्रकार का व्यसन है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
मनुष्य के मन की इच्छाएं कभी पूरी नहीं होती, क्योंकि वो भाग्य के अधीन होती हैं।  इसलिए मनुष्य को धैर्य धारण करना चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

ज्ञानी पुरुषों को किसी प्रकार का भय नहीं होता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
दुष्ट व्यक्ति से किसी प्रकार की भलाई की आशा नहीं रखनी चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

मनुष्य को अत्यंत सरल और सीधा भी नहीं बनना चाहिए। क्योंकि वन में सीधे वृक्ष काट दिए जाते हैं परन्तु टेढ़े-मेढे वृक्ष खड़े रहते हैं।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

जो व्यक्ति अपने कर्तव्य को नहीं पहचानता वह आंखें होते हुए भी अँधा है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

जो व्यक्ति बिना सोचे कार्य करता है, लक्ष्मी उसका त्याग कर देती है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

जिस व्यक्ति के पास सत्य रूपी धन है उसके लिए कोई भी वस्तु अप्राप्त नहीं रहती।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
बुरी लत में पड़ा हुआ व्यक्ति किसी एक बात पर ध्यान न देने के कारण अपने कर्तव्य को भूल जाता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

समय का सही प्रयोग न करने वाला व्यक्ति अपना जीवन निर्विघ्न होकर नहीं गुजार सकता।” आचार्य चाणक्य
मनुष्य में यदि कोई एक बड़ा दोष हो तो वह बहुत से गुणो को दोष में बदल देता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

अग्नि, गुरु, ब्राह्मण, गाये, कुंवारी कन्या, बूढ़ा आदमी और छोटे बच्चे इन सबको कभी भी पैर से नहीं छूना चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
शांति से बढ़कर कोई तप नहीं, संतोष से बढ़कर कोई सुख नहीं, चाह से बढ़कर कोई रोग नहीं और दयालुता से बढ़कर कोई धर्म नहीं।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

मनुष्य की देह अगर सुंदर है, लेकिन उसमें गुणों का अभाव है तो वह सौन्दर्य किसी काम का नहीं।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

यदि तू सफलता चाहता है तो बुरे व्यसनों और बुरी आदतों को विष के समान समझ कर उनका त्याग कर दे।” आचार्य चाणक्य


chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

शत्रु पर आपत्ति आने की बात सुनकर प्राय सभी व्यक्तियों को प्रसन्ता होती है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने के स्थान पर क्षमा का प्रदर्शन करना अत्यधिक प्रशंसनीय कार्य है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

शास्त्रों के ज्ञान से इंद्रियों को शांत अथवा उन्हें अपने वश में रखा जा सकता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

शिक्षा मनुष्य का ऐसा गुप्त धन है जिसे चोर भी चुरा 
नहीं सकता। इसलिए शिक्षा को सवर्श्रेष्ठ धन माना जाता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

चतुर व्यक्ति को जीवन में आजीविका चलाने का भय नहीं होता।” आचार्य चाणक्य


chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

चुगलखोर या दूसरों का दोष निकालने वाले व्यक्तियों को गुप्त नहीं बतानी चाहिए। उन्हें बताई गयी गुप्त बात गुप्त नहीं रहती।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

अनुकूल समय को पहचानने वाला व्यक्ति अपने कार्य में बड़ी आसानी से सफलता पा सकता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

कोई भी कार्य शुरू करने के बाद उसे पूरा करने में देरी या आलस्य नहीं करना चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

विपत्ति के समय जब व्यक्ति को सारा संसार अकेला छोड़ देता है तो उस समय सहानुभूति रखने वाला ही मित्र कहलाता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

अपनी योजना के भेद प्रकट होने के सभी मार्गों को रोककर उसकी रक्षा करनी चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
दूसरे के गुणों से ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए। ” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

विद्यार्थी के लिए आवश्यक है कि वह क्रोध, लोभ, स्वादिष्ट पदार्थों की इच्छा, श्रृंगार और अधिक सोना इन बातों का त्याग कर दे। ” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
देवता, सज्जन और पिता स्वभाव से संतुष्ट होते हैं। मेहमान और मित्र आदि खानपान से और विद्वान केवल मीठी बातों से प्रसन्न हो जाते हैं। ” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
दरिद्रता, रोग, दुःख, बंधन तथा आपत्तियां ये मनुष्य के अधर्म रूपी वृक्ष के फल हैं” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi

 

जिस व्यक्ति के मन में प्राणियों के कष्टों को देखकर दया के भाव आते हैं, उसे ज्ञान और मोक्ष प्राप्त करने के लिए तप की आवश्यकता नहीं हैं। ” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
जो विद्या पुस्तकों तक ही सीमित है और जो धन दूसरों के पास पड़ा है, आवशयकता पड़ने पर न तो वह विद्या काम आती है न ही वह धन।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
मनुष्य को हर सुबह पूरे दिन के कार्यों संबंध विचार करना चाहिए।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
कठोर वचन बोलने वाला व्यक्ति पूरे कुल को कलंकित कर देता है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
“धन से धर्म की, योग से विद्या की और अच्छी स्त्रियों से घर की रक्षा होती है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
इन्द्रियों को वश में रखना तप का सार है।” आचार्य चाणक्य

chanakya quotes hindi
chanakya thoughts hindi
जिसके पास बुद्धि अथवा ज्ञान है, उसके पास ही बल है।” आचार्य चाणक्य
 
अगर आपको Chanakya thoughts पसंद आये तो आप इन्हे शेयर भी कर सकते हैं और अगर कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट जरूर करें। 

Leave a Reply